दुनिया का सातवां अजूबा और प्यार की निशानी कहे जाने वाले ताजमहल को मुमताज की याद में शाहजहां ने बनवाया था

शाहजहां ने सात शादियां करी थी जिसमें मुमताज चौथी बीवी थी और अपने 14 बच्चे को जन्म देते समय उनकी मृत्यु हो गई थी

उनकी याद में 1632 से 1653 में शाहजहां ने ताजमहल बनवाया ताजमहल लकड़ी की नींव पर खड़ा है

और इसके अंदर काफी तहखाने हैं जिनमें खजाना हो सकता है

मुनमुन दत्ता का घर हैं सुपर लक्ज़री कीमत हैं करोडो में - 

बात करें ताजमहल की लाइट की तो ताजमहल 1653 में बना था

और लाइट उसके 400 साल बाद 2000 ईस्वी में खोजी गई इसलिए ताजमहल को संगमरमर से बनाया गया

जिससे वो रात में भी चमकता है सरकार ने दो बार ताजमहल में के सामने और तालाब में लाइट लगाने का फैसला किया

लेकिन दोनों बार वे लाइट खराब हो गई इसके बाद ताजमहल में लाइट नहीं लगाई गई और वह चांद की रोशनी से चमकता है

ताजमहल में अंदर मुमताज महल का मकबरा भी बनाया हुआ हैं